शेयर बाजार (Share Bazar) में 90% लोग अपना पैसा गंवा देते हैं। Research and Ranking

हैरान करने वाली,लेकिन सच: शेयर बाजार (Share Bazar) में 90% लोग अपना पैसा गंवा देते हैं।

Posted by

शेयर और शेयर बाजार (Share Bazar) को लेकर एक बहुत पुराना, लेकिन लोकप्रिय चुटकुला है। अगर शेयर बाजार (Share Bazar) में आपका पैसा डूब गया है और आप दुखी हैं, तो परेशान मत होइये। आप अपने जान-पहचान वाले किसी ऐसे व्यक्ति से मिलिये, जिसने शेयर बाजार में पैसा गंवाया है, तो आप अच्छा महसूस करेंगे, क्योंकि आपका नुकसान कम हुआ है।

हालांकि यह मजाक दशकों से चल रहा है, लेकिन आज भी सही है। आज भी ऐसे लोगों की कमी नहीं है, जो कि हर दिन शेयर बाजार (Share Bazar) में पैसे गंवाते हैं। एक लोकप्रिय अनुमान के अनुसार, शेयर बाजार (Share Bazar) में 90% लोग अपना पैसा गंवा देते हैं। इनमें नए और अनुभवी निवेशक भी शामिल हैं।

क्या, ये हैरान करने वाली बात नहीं है? लेकिन यह सच है शेयर बाजार (Share Bazar) में 90% लोग अपना पैसा गंवा देते हैं।

शेयर बाजार (Share Bazar) में निवेशकों का पैसा क्यों डूबता है, इसके बहुत सारे कारण हैं। आइये उनमें से सबसे महत्वपूर्ण कुछ कारणों के बारे में हम चर्चा करते हैं।

1. अफवाह और स्टॉक टिप्स के आधार पर शेयर बाजार (Share Bazar) में निवेश करना

क्या आपके पास इस प्रकार के एसएमएस आते हैं- “XYZ कंपनी के 1000 शेयर रु. XX में खरीदें”,“इस कंपनी में एक महीने में काफी तेजी आएगी,क्योंकि ABC कंपनी उसको खरीदने वाली है” या “XYZ  के शेयर बड़े पैमाने पर खरीदें, क्योंकि यह कंपनी ABC कंपनी के प्रोडक्ट या सर्विस का विशेष वितरण अधिकार खरीदने वाली है। इसलिये इसे अभी रु.XX की कम कीमत पर खरीदें और अगले कुछ समय में रु.XXX की अधिक कीमत पर बेच दीजिए”?

इस तरह के संदेश धोखेबाजों द्वारा जानबूझकर थोक एसएमएस के माध्यम से भेजे जाते हैं। शेयर बाजार (Share Bazar) कार्टेल के रूप में काम करने वाले ऐसे धोखेबाज सीधे-साधे निवेशकों को वैसे शेयरों में फंसाना चाहते हैं, जिनका कोई ठोस आधार नहीं होता है।  

बहुत सारे निवेशक, खासकर नए, बिना सोचे-समझे वैसे किसी व्यक्ति के शेयर टिप्स के चक्कर में फंस जाते हैं, जो खुद ही इसके लिए किसी दूसरे के सलाह पर निर्भर रहता है। और अगर मान लिया किसी के लिए आज की डिजिटल दुनिया में दोस्तों/रिश्तेदारों/सहयोगियों के स्टॉक टिप्स के पर्याप्त नहीं हों। तो, ऐसे में सोशल मीडिया, व्हाट्सएप ग्रुप और बिजनेस न्यूज चैनलों पर स्टॉक टिप्स सहित सूचनाओं की लगातार बमबारी हो रही है। स्टॉक खरीदने के 3 गलत कारणों के बारे में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

हम बिजनेस न्यूज चैनलों पर कई खुद को एक्सपर्ट बताने वाले या एंकर को अगले कुछ पलों में अच्छे पैसे कमाने की उम्मीद में स्टॉक खरीदने या बेचने की सलाह देते हुए देख सकते हैं। लेकिन बदकिस्मती से, यह सीधे-साधे निवेशकों के लिए एक खतरनाक जाल बना जाता है। सीधे-साधे निवेशक अक्सर स्टॉक टिप्स की इस बमबारी को सही मान लेते हैं और असलियत को जाने बिना ही इसके आधार पर निवेश कर देते हैं।

स्टॉक टिप्स के नुकसान को इंफीबीम एवेन्यूज के उदाहरण से अच्छी तरह से समझा जा सकता है। 28 सितंबर 2018 को इंफीबीम एवेन्यूज (Infibeam Avenues) का स्टॉक लगभग 71% गिरकर करीब रु.197 से करीब रु.50 पर आ गया। जानते हैं इस गिरावट की वजह क्या थी? किसी व्यापारी समूह में फैलाया गया एक व्हाट्सअप संदेश, जिसके बाद निवेशकों में घबराहट फैल गई और वे धड़ाधड़ शेयर बेचते चले गए। 

नुकसान इतना ज्यादा हो गया था कि कंपनी के एमडी को इस संबंध में सफाई देनी पड़ गई। उसके बयान में कहा गया कि कुछ व्हाट्सअप मैसेज की वजह से बाजार के भागीदारों और निवेशकों में बहुत ज्यादा घबराहट फैल गई। एमडी ने इस मैसेज को गलत और कंपनी को जानबूझकर नुकसान पहुंचाने वाली भावना से प्रेरित बताया।    

ऐसा कहा जाता है कि “बुरी खबर आमतौर पर किसी और के लिए अच्छी खबर होती है”। इक्विटीज से जुड़ी खबरों पर यह 100% लागू होता है। अक्सर, कुछ संस्थाओं द्वारा मीडिया के माध्यम से जानबूझकर मनगढ़ंत खबर के रूप में अफवाहें फैलायी जाती है। इसका लक्ष्य होता है निवेशकों में यह गलत भरोसा दिलाना कि इस खास समाचार से वे दूसरों से आगे रहकर मुनाफा कमा सकते हैं।

इसको असल में घटी एक घटना से समझिये। ग्रेफाइट इंडिया (Graphite India) का स्टॉक सितंबर 2018 में अधिकांश बिजनेस समाचार चैनलों और वेबसाइटों पर एक हॉट पिक था। इस कंपनी के शेयर में रु.400 का लक्ष्य दिया गया था,जबकि उस समय उसकी बाजार कीमत रु.100 थी। हालांकि, चार महीने बाद, उन्हीं बिजनेस न्यूज चैनलों और वेबसाइटों ने ग्रेफाइट इंडिया के शेयरों को रु.53 के लक्ष्य के साथ बेचने की सलाह दी। फिलहाल यह शेयर रु.181 के स्तर पर कारोबार कर रहा है।

अगर किसी निवेशक ने बिजनेस न्यूज चैनलों और वेबसाइटों द्वारा दी गई खरीद की सिफारिशों के आधार पर ग्रेफाइट इंडिया का स्टॉक खरीदा होता तो उसे कितना नुकसान होता, क्या आप इस बात की कल्पना कर सकते हैं?

हमेशा याद रखें कि सभी जानकारी सही जानकारी नहीं होती है।

2. भारतीय शेयर बाजार (Share Bazar) में पेनी स्टॉक में निवेश करना

नाम के हिसाब से पेनी स्टॉक्स सस्ता मिलते हैं, आमतौर रु.1 से रु.9 में या उससे भी सस्ता। सस्ते होने की वजह से ऐसे स्टॉक्स कुछ निवेशकों को लुभाते हैं। हालांकि, कुछ निवेशक इस प्रक्रिया में भूल जाते हैं कि कीमत और वैल्यू अलग-अलग होते हैं।

पेनी स्टॉक्स का बाजार पूंजीकरण कम होता है और सार्वजनिक तौर पर इनके बारे में जानकारी बहुत कम होती है। इसकी वजह से ऐसी कंपनियों में प्रबंधन धोखाधड़ी और पैसों से जुड़े खराब प्रबंधन की संभावना काफी ज्यादा होती है।

पेनी स्टॉक में निवेश करना अपने पैसे को नाले में फेंकने जैसा है। बदकिस्मती से, कुछ निवेशक ऐसे स्टॉक्स में पैसे लगाने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। प्रकाश स्टीलेज, लैंको इंफ्राटेक, जेमिनी कम्युनिकेशन और बिड़ला पावर सॉल्यूशंस पेनी स्टॉक के कुछ प्रमुख उदाहरण हैं, जिन्होंने निवेशकों की 75-90% संपत्ति को डूबा दिया।

3. इंट्रा डे और कम समय वाले कारोबार में शामिल होना

बहुत से लोग कम समय वाले कारोबार में शामिल रहते हैं। ऐसा करके वे उत्साह, रोमांच और जल्दी से अमीर बनने की भावना को महसूस करते हैं। लेकिन मेरा विश्वास कीजिए, अगर आप उत्साह चाहते हैं, तो वेगास चले जाइये। ऐसा इसलिए है, क्योंकि संपत्ति निर्माण एक थकाऊ और लंबी प्रक्रिया है।

आम तौर पर, लोग सफलता को शुरुआती एक या दो ट्रेडों से जोड़ते हैं और उनमें यही गलत सोच अधिक मार्जिन के साथ और ज्यादा लेन-देन के लिए उकसाती है। हालांकि, इस प्रक्रिया में, वे यह भूल जाते हैं कि किसी भी असफल लेन-देन पर नुकसान संभावित तौर पर उनके पिछले सभी लाभों को नष्ट कर सकता है।

बहुत सारे लोग इंट्रा डे ट्रेडिंग में अपना पैसा गंवाने के बाद उस नुकसान की भरपाई के लिए बाजार को दुश्मन मानकर उससे बदला लेने के चक्कर में अपना और ज्यादा नुकसान कर बैठते हैं। ऐसा करते समय तर्क के बदले उनपर उनकी भावनाएं हावी हो जाती हैं, इससे उन्हें और अधिक नुकसान उठाना पड़ जाता है। बदला व्यापार उन अंतर्निहित कारणों में से एक है, जिससे कई व्यापारी अपनी पूरी पूंजी गंवा बैठते हैं।

4. शेयर बाजार (Share Bazar) में निवेश करते समय सब्र की कमी

लंबे समय के निवेश के लिए सब्र सबसे जरूरी गुणों में से एक है। जो निवेशक ऐसा करते समय सब्र  रखने का महत्व समझते हैं, वे मुनाफा कमाते हैं, लेकिन जो ऐसा नहीं करते, उन्हें इसकी भारी कीमत चुकानी होती है।

छोटी अवधि में, बाजार और शेयर की कीमतों पर समाचार और भावनाओं का असर होता है। इसके अलावा, कोई भी आर्थिक, वैश्विक, या राजनीतिक परिवर्तन छोटी अवधि में शेयर बाजारों (Share Bazar) को प्रभावित कर सकता है। हालांकि, लंबी अवधि में, स्टॉक की कीमतें व्यवसाय के फंडामेंटल्स और उसकी कमाई से नियंत्रित होती हैं।

कई निवेशक अच्छे शेयरों को ज्यादा कीमत पर खरीदते हैं, लेकिन घबराकर करेक्शन के पहले संकेत पर ही कम कीमत पर बेच देते हैं। इसके बदले उन्हें ‘कम पर खरीदें और अधिक में बेचें’ मंत्र को अपनाना चाहिए।

“सफल निवेश में समय, अनुशासन, और धैर्य लगता है। प्रतिभा या प्रयास कितना भी महान क्यों ना हो, कुछ चीजों में समय लगता है: आप नौ महिलाओं को गर्भवती करके एक महीने में बच्चा पैदा नहीं कर सकते।” – वारेन बफेट।

5. बुनियादी तौर पर मजबूत कारोबार में निवेश नहीं करना

बुनियादी तौर पर मजबूत स्टॉक्स का प्रबंधन पारदर्शी होता है। उसका कारोबारी मॉडल मजबूत होता है और उसे पेशेवर तरीके से चलाया जाता है। इस वजह से ऐसी कंपनियां किसी भी तरह के आर्थिक संकट के असर से खुद को बचाकर रखती हैं। साथ ही आर्थिक स्थिति में सुधार के दौरान ऐसी कंपनियां सबसे पहले सुधरती हैं और बेहतर प्रदर्शन करती हैं।

जैसा कि आप जानते होंगे, साल 2008 शेयर बाजार (Share Bazar) के इतिहास में सबसे भारी गिरावटों में से एक था। कई निवेशकों ने घबराकर अपने निवेश को भारी नुकसान के साथ बेच दिया, जैसे कि कल नहीं आएगा। हालांकि, जो निवेशित रहे, उन्होंने 24 महीने से भी कम समय में बाजार में हुए सुधार के बाद काफी मुनाफा कमाया।

मार्च 2020 में भी भारी गिरावट के बाद फिर से यही हुआ। उस समय कोविड -19 महामारी के उभरने के बाद सूचकांकों में तेजी से गिरावट आई थी। हालांकि, बाजार में तेजी से सुधार हुआ और भारतीय सूचकांकों ने 11 महीने से भी कम समय में जीवन के नए उच्च स्तर को छुआ।

इस तरह से आपने जाना कि ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से 90% निवेशक शेयर बाजार (Share Bazar) में पैसा गंवा देते हैं। मुनाफा को तो भूल ही जाइये, उनमें से ज्यादातर अपनी पूरी पूंजी तक गंवा देते हैं और इसके लिए वे बाजार या अपनी किस्मत को दोष देते हैं। इक्विटी में सफल निवेश कोई रॉकेट साइंस नहीं है। यह सही निवेश करने, धैर्य रखने, और भारी गलतियों से बचने के बारे में है।

आपको संपत्ति निर्माण में मदद करने वाली कुछ महत्वपूर्ण बातें

  • किस्तों में खरीदें: बाजार की हर गिरावट का इस्तेमाल सस्ते में खरीद के मौके के रूप में करें।
  • खास स्टॉक पर आधारित दृष्टिकोण सबसे अच्छा काम करता है: क्वालिटी वाले कारोबार को पहचान कर उसमें थोड़ा थोड़ा निवेश करना शुरू करें।
  • लंबी अवधि के बारे में सोचें: तीन साल से लेकर 5 साल से ज्यादा अवधि के लिए निवेश करें।
  • अपना ध्यान बनाए रखें:  व्हाट्सएप/ट्विटर/समाचार चैनलों के माध्यम से आपको मिलने वाली बहुत अधिक जानकारी या अफवाहों से अपना ध्यान मत भटकने दें।
  • बाजार के लिए समय देने की कोशिश मत करें: बाजार में आगे क्या होगा, कितना गिरेगा या कितना चढ़ेगा, इन सबको जानने में समय मत बर्बाद करें।

Read more: Know more About Research and Ranking

Share On :